Breaking News

BREAKING NEWS

Supreme Court Stayed Trial Court proceedings against Nithyananda in the 2010 rape case

Nithyananda rape case trial next date:sep 2017

Nithyananda is a NORMAL ADULT and CAPABLE (Not impotent) - says Supreme Court Ordered Medical Tests; report exposes Nithy's fake claims of being 6-years old!

Updates from Courts

UPDATES FROM COURTS

Trial court hears arguments on charge & discharge arguments for all accused. Next hearing in Trial Court on 21-08-17

Supreme Court directs Trial Court to continue with trial proceedings (arguments on charge) in Interim Order dated 7-11-2016.

Supreme Court DISMISSED ALL PETITIONS by Nithyananda and his Secretaries to Quash Charge Sheet (3rd Sep 2014)


High Court DISMISSED ALL PETITIONS by Nithyananda and his Secretaries to Quash Charge Sheet (16th Jul 2014)

NITHYANANDA FOUNDATION GUILTY OF FRAUD - US COURT ORDERED RETURN OF DONATIONS 2012

17 Retaliatory/false Complaints filed so far against whistleblower Dharmananda (lenin) by Nithyananda Cult Members!!!!

14 Retaliatory/false Complaints filed so far against victim Aarthi Rao by Nithyananda & his Cult Members!!!! (All of them after charge sheet against Nithyananda)

3 cases filed in the US against Accused 1 Nithyananda (Mr. Rajasekar), Nithyananda Foundation, Life Bliss Foundation,

4 cases filed in India against Nithyananda Dhyanapeetam for fraud:

Donors of Hyderabad Ashram, Rajapalayam Ashram,Trichy ashram and Seeragapadi Ashram (near Salem) demand that fraudulently obtained donations be returned

NITHYANANDA SLEAZE CD GENUINE : CID & FSL REPORT

Renowned Forensic Expert Padma Bhushan Prof. Dr. P. Chandra Sekharan states "video not morphed"

Nithyananda dismissed from Madurai Adheenam (on 19th Oct 2012), Nithyananda is banned from entering Madurai Adheenam mutt


Wednesday, May 20, 2015

It's now Gulabi Gang's turn to protest against Nithyananda




Several groups took to the streets of Varanasi on Monday to protest against a program conducted by Nithyananda, the self-styled godman accused of rape. Nithyananda is currently conducting a 21-day program called "Inner Awakening" the city.


The groups are demanding that he should not be allowed to conduct satsangs and other programs in the holy city. Among the groups that are protesting are Gulabi Gang (women’s activists who fight against injustice and atrocities against women), All India Student Association (AISA), students of Benaras Hindu University and Kashi Vidhyapeet, Progressive Writers Association, Lok Chetana organization and Nirmal India Party.




Various forms of protest could be seen in the city ranging from signature campaigns appealing to the Chief Minister and local authorities to stop Nithyananda’s programs in Varanasi to a Satyagraha march. Angry women protestors were also found attacking Nithyanada’s hoardings and flex posters with chappals and sticks.

The Sub-Divisional Magistrate Tribuvan Vishwakarma has assured the protestors that Nithyanada will be ordered to leave Varanasi within four days. 








Credits: The News Minute 


Nithyananda Booted out of Varanasi: by Students and Women


வாரணாசியிலிருந்து வெளியேறினார் நித்யானந்தா: பெண்கள், மாணவர்கள் எதிர்ப்பால் ஓட்டம்






வாரணாசி: பிரபல சாமியார் நித்யானந்தாவின் வருகைக்கு எதிர்ப்பு தெரிவித்து, வாரணாசியில் பெண்கள் அமைப்பினர் மற்றும் மாணவர் அமைப்பினர் போராட்டத்தில் ஈடுபட்டனர். இதனால், நித்யானந்தா தன் ஆன்மிக நிகழ்ச்சிகளை பாதியில் ரத்து செய்து விட்டு, வாரணாசியை விட்டு வெளியேறினார். சர்ச்சைக்குரிய சாமியார் நித்யானந்தா, உ.பி., மாநிலம், வாரணாசியில், 21 நாள் நிகழ்ச்சி நடத்த திட்டமிட்டு, சில தினங்களுக்கு முன் அங்கு சென்றார். அவரின் ஆதரவாளர்கள், நகரின் முக்கிய பகுதிகளில், நித்தியின் படங்கள் அடங்கிய பிளக்ஸ் பேனர்களை வைத்து விளம்பரப்படுத்தினர். செக்ஸ் புகார் உட்பட, பல சர்ச்சைக்கு ஆளான நித்தியின் வருகையால், ஆத்திரமடைந்த மகளிர் அமைப்பினர், பனாரஸ் பல்கலைக்கழக மாணவர் அமைப்பினர் மற்றும் பல்வேறு அமைப்புகளை சேர்ந்தவர்கள் ஒன்றிணைந்து போராட்டத்தில் ஈடுபட்டனர். சாலைகளில் வைக்கப்பட்டிருந்த, நித்தியின் படத்திற்கு செருப்பு மாலை அணிவித்தும், பிளக்ஸ் பேனர்களை அடித்து நொறுக்கியும், தங்கள் எதிர்ப்பை வெளிப்படுத்தினர். 'புனித நகரமான வாரணாசியை விட்டு, நித்தி உடனடியாக வெளியேற வேண்டும்' என, மாவட்ட நிர்வாகத்திடம் கோரிக்கை விடுத்தனர்.போராட்டம் தீவிரம் அடைந்ததால், நான்கு நாட்களுக்குள், நித்யானந்தாவை வாரணாசியிலிருந்து வெளியேற்ற நடவடிக்கை எடுப்பதாக உதவி கலெக்டர் உறுதியளித்தார். இந்நிலையில், நித்யானந்தா, ஆன்மிக நிகழ்ச்சியை ரத்து செய்து விட்டு, தன் சீடர்களுடன் வாரணாசியை விட்டு நேற்று வெளியேறினார். அவர் எங்கு சென்றார் என்ற விவரம், எதுவும் தெரிவிக்கப்படவில்லை.

 Credit: Dinamalar News

Saturday, May 16, 2015

Varanasi Women Protest against Sex Scandal Accused Nithyananda

सेक्स स्कैंडल के आरोपी नित्यानंद के खिलाफ सड़कों पर उतरी महिलाएं

 

हाथों में बैनर लेकर विरोध करते लोग।
हाथों में बैनर लेकर विरोध करते लोग।

वाराणसी. सेक्स स्कैंडल में फंस चुके महामंडलेश्वर स्वामी नित्यानंद ने कैंटोमेंट स्थित होटल में गुरुवार से 'कल्‍पतरू दर्शक' नाम से कार्यक्रम शुरू किया। सात से 27 मई तक चलने वाले इस कार्यक्रम का विरोध शुरू हो गया है। महिलाओं ने शास्त्री घाट के पास सड़कों पर उतरकर जोरदार प्रदर्शन किया। वहीं, साझा संस्कृति मंच के लोगों ने हाथों में बैनर-पोस्टर लेकर 'नित्यानंद मुर्दाबाद, नित्यानंद बाबा वापस जाओ और काशी की संस्कृति को बचाओ' जैसे नारे लगाए। सूचना पर वहां पहुंचे एसीएम ने उनका ज्ञापन लिया।
नित्यानंद के विरोध में काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के स्टूडेंट्स भी आगे आ गए हैं। उनके कार्यक्रम के खिलाफ कैंपस में गुपचुप तरीके से सिग्नेचर कैंपेन चलाया जा रहा है। संस्था द्वारा सीएम और स्थानीय अधिकारियों को कार्यक्रम पर पाबंदी लगाने के लिए मेल पर सूचना दी गई है।
 
विरोध में उतरे लोग
साझा संस्कृति मंच के प्रमुख वल्लभ पांडेय ने बताया कि सात मई से 27 मई तक तथाकथित महामंडलेश्वर का कार्यक्रम हो रहा है। इसका प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। पूरे शहर में फ्लेक्स और बैनर टंगे हुए हैं। इसमें किसी स्थानीय संस्था, संगठन या व्यक्ति का नाम पता नहीं दिया गया है। ढोंगी संन्यासी पर पूर्व में यौनशोषण के आरोप लग चुके हैं और अनेक मामलों में विवादित भी रहा है। ऐसे पाखंडियों का काशी में विरोध और बहिष्कार जरूरी है।
 
धार्मिक कार्य नहीं करने दिया जाएगा
डॉ. आनंद तिवारी का कहना है सेक्स स्कैंडल में फंसे बाबा को बनारस में धार्मिक कार्य नहीं करने दिया जाएगा। इस मुद्दे को लेकर स्थानीय लोग जल्द ही डीएम से मुलाकात करेंगे। आइसा की स्थानीय नेता शिखा ने बताया कि बुधवार को नित्यानंद के खिलाफ विद्यापीठ और बीएचयू में सिग्नेचर कैंपेन चलाया गया था। स्थानीय स्तर पर इसका विरोध भी शुरू हो गया है।

Source: Dainik Bhaskar

Thursday, May 14, 2015

सेक्स स्कैंडल में फंसे स्वामी नित्यानंद के खि‍लाफ गुलाबी गैंग ने किया प्रदर्शन

होर्डिंग निकालती महिलाएं।


वाराणसी. सेक्स स्कैंडल में फंस चुके महामंडलेश्वर नित्यानंद बाबा के कार्यक्रम के विरोध में मंगलवार को गुलाबी गैंग की 100 महिलाएं हाथों में डंडा लेकर सड़कों पर उतर गईं। इस दौरान कार्यक्रम स्थल के बाहर उन्होंने लाठी-डंडा लेकर प्रदर्शन किया और वहां लगे होर्डिंग और पोस्टरों को चप्पल-डंडे से पीटकर गिरा दिया। सूचना मिलते ही भारी मात्रा में पहुंची फोर्स ने उन्हें रोक दिया। एससीएम त्रिभुवन विश्वकर्मा ने गुलाबी गैंग को आश्वासन दिया कि चार दिनों में बाबा का कार्यक्रम बंद करा दिया जाएगा।
महोबा और बांदा की रहने वाली गुलाबी गैंग से जुड़ी महिलाएं गैंग की राष्ट्रीय कमांडर सुमन सिंह चौहान के साथ गंगा स्नान और काशी दर्शन के लिए पहुंची थीं। इस दौरान उन्हें पता चला कि कैंटोमेंट स्थित एक होटल में लड़कियों और महिलाओं को तीन हजार रुपए में नित्यानंद स्वामी कल्पतरू दर्शन दे रहे हैं। इसके बाद कुछ महिलाएं बाबा का दर्शन करने होटल पहुंचीं तो उन्हें भगा दिया गया। इसके बाद 100 से ज्यादा महिलाएं हाथों में लाठी-डंडा लेकर होटल पहुंच गईं और प्रदर्शन करने लगीं।
काशी दर्शन करने पहुंची थी गैंग की महिलाएं
गुलाबी गैंग की राष्ट्रीय लीडर सुमन सिंह चौहान ने बताया कि वे सभी लोग काशी दर्शन के लिए आए थे। इस दौरान उन्होंने देखा कि पूरे शहर में नित्यानंद बाबा के पोस्टर लगे हैं और वे सात से 27 मई तक कल्पतरू दर्शन दे रहे हैं। इसके बाद वह बुजुर्ग महिलाओं को लेकर बाबा से मिलने होटल पहुंचीं तो उन्हें भगा दिया गया। वहां 20-30 साल की लड़कियों और महिलाओं को तीन हजार रुपए में कमरे में ले जाया जा रहा है।
बाबा पर चल रहा है रेप केस
गुलाबी गैंग की सदस्य मुन्नी ने बताया कि नित्यानंद अपनी शिष्या तमिल एक्ट्रेस के साथ यौन संबंधों में फंसा है। उसका एसएमएस पूरी दुनिया देख चुकी है। उसके खिलाफ कर्नाटक में रेप का केस चल रहा है। उसकी सुनवाई दो जून 2015 को है। बाबा अपने को नपुंसक कहता है। उसे धार्मिक नगरी से भगाया जाए नहीं तो गुलाबी गैंग उसे धक्के मारकर काशी से बाहर कर देगी। काशी विश्वनाथ की नगरी में दुराचारी बाबा लोगों को बेवकूफ बना रहा है।

 

 

 

Source: Dainik Bhakar 

Wednesday, May 13, 2015

Protests against Nithyananda in Varanasi - by Gulabi Gang women



  • गुलाबी गैंग ने स्वामी नित्यानंद का किया विरोध, कहा नहीं होने देंगी ढोंगी का सत्संग
    गुलाबी गैंग ने स्वामी नित्यानंद का किया विरोध, कहा नहीं होने देंगी ढोंगी का सत्संग 
  • गुलाबी गैंग ने स्वामी नित्यानंद का किया विरोध, कहा नहीं होने देंगी ढोंगी का सत्संग
    गुलाबी गैंग ने स्वामी नित्यानंद का किया विरोध, कहा नहीं होने देंगी ढोंगी का सत्संग 
शहर के सूर्या होटल में प्रवचन देने आए स्वामी नित्यानंद को 12 मई को "गुलाबी गैंग" के विरोध का सामना करना पड़ा। उत्तर प्रदेश के बांदा जिले से आईं गुलाबी गैंग की महिलाओं ने काशी की लोक चेतना संस्था और निर्मल इण्डिया पार्टी के साथ शहर के मिंट हाउस से स्वामी के कार्यक्रम स्थल सूर्या होटल तक सत्याग्रह यात्रा निकाली। नित्यानंद के पोस्टर पर उन्होंने कालिख पोत रखी थी। उनका कहना था कि जो महिलाओं का सम्मान नहीं कर सकता और जिसके ऊपर बलात्कार का केस चल रहा हो वह धर्म की नगरी में सत्संग कैसे कर सकता है।

इस संबंध में लोकतांत्रिक जन संगठन गुलाबी गैंग की राष्ट्रीय कमांडर सुमन सिंह चौहान ने बताया, "हमने अखबारों में पढ़ा कि यहां काशी में एक ढोंगी बाबा आया हुआ है जो खुद को भगवान बताकर 3 हज़ार रूपये में लोगों को दर्शन दे रहा है। यह ढोंगी बाबा किशोरियों को फंसाकर बलात्कार करता है और इस पर बलात्कार का मुकदमा भी चल रहा है। ऐसे में हम धर्म नगरी काशी में इसका कोई कार्यक्रम नहीं होने देंगी।"

वहीं मौके पर पहुंचे एसडीएम त्रिभुवन विश्वकर्मा ने जानकारी दी कि स्वामी नित्यानंद ने अपने ज्ञान प्रवाह के लिए 7 से 22 मई का समय प्रशासन से लिया है। हम 22 मई से पहले स्वामी नित्यानंद के खिलाफ कोई एक्शन नहीं से सकते।

गुलाबी गैंग महिला उत्पीड़न और महिलाओं पर होने वाले अत्याचार के खिलाफ काम करता है। बांदा से गंगा स्नान करने आईं गुलाबी गैंग की महिलाओं ने गुलाबी छड़ी के साथ सूर्या होटल पर जमकर स्वामी नित्यानंद को अपशब्द कहे। बता दें कि नित्यानंद द्वारा अपने शिष्यों के साथ यौन शोषण करने के मामले का खुलासा हुआ था। उसके बाद दक्षिण भारतीय फिल्म अभिनेत्री के साथ सेक्स स्कैंडल में फंसे स्वामी के खिलाफ गुलाबी गैंग ने इसे आंदोलन के तौर पर लिया था।

Source: DNA Varanasi

Nithyananda Posters Beaten with Chappals by Varanasi Women

नित्यानंद बाबा के पोस्टर को महिलाओं ने चप्पलों से पीटा

gulabi gang women protest and attacks on baba nityananda poster and hoardings in varanasi
gulabi gang women protest and attacks on baba nityananda poster and hoardings in varanasi

वाराणसी। सेक्स सकैंडल में फंसे महामंडलेश्वर नित्यानंद बाबा के विरोध में मंगलवार को अचानक महिलाएं सड़क पर उतर आईं। चर्चित गुलाबी गैंग के बैनर तले दर्जनों महिलाए कैंटोमेंट एरिया में एक होटल के बाहर जमा हो गईं। इसी होटल में बाबा का कार्यक्रम प्रस्तावित है।

हाथों में डंडा थामें कई महिलाओं ने वहां लगे बाबा के होर्डिंगस और पोस्टरों पर हमला बोल दिया। देखते ही देखते वहां लगे बाबा के पोस्टरों और होर्डिंग पर चप्पलों की बौछार शुरू कर दी। मौके पर अफरातफरी के हालात बन गए। सूचना मिलते ही एसीएम तृतीय त्रिभुवन शर्मा मौके पर पहुंचे।

शर्मा ने महिलाओं बातचीत की तथा उन्हें समझाया। उन्होंने महिलाओं को आश्वासन दिया कि चार दिन के भीतर बाबा का कार्यक्रम बंद करा दिया जाएगा। मालूम हो कि इससे पूर्व महोबा और बांदा जनपद से गुलाबी गैंग से जुड़ी महिलाएं राष्ट्रीय कमांडर सुमन सिंह चौहान के साथ गंगा स्नान और काशी दर्शन के लिए पहुंची थीं।

इस दौरान उन्हें पता चला कि कैंटोमेंट स्थित एक होटल में लड़कियों और महिलाओं को तीन हजार रुपए में नित्यानंद स्वामी कल्पतरू दर्शन दे रहे हैं। इसके बाद कुछ महिलाएं बाबा का दर्शन करने होटल पहुंचीं तो उन्हें भगा दिया गया।

यह सूचना पाते ही वहा गुलाबी गैंग की सदस्य वहा पुहंच गई और वहां लगे बाबा के होर्डिंग और पोस्टरों को चप्पल-डंडे से पीटकर गिरा दिया। इस दौरान गुलाबी गैंग की कार्रवाई देखने के लिए लोगों की भीड़ जुटी रही।

गुलाबी गैंग की सदस्य मुन्नी देवी का कहना है कि नित्यानंद अपनी शिष्या तमिल अभिनेत्री के साथ यौन संबंधों में फंसा है। उसका एसएमएस सारी दुनिया देख चुकी है। कर्नाटक में भी उसके खिलाफ रेप केस चल रहा है। आने वाले 2 जून को केस की सुनवाई है। खुद को बाबा नपुंसक बताता है, ऐसे बाबा को धार्मिक नगरी से प्रशासन ने नहीं निकाला तो गुलाबी गैंग उसे काशी से बाहर कर देगी। ये दुराचाी बाबा लोगों को मुर्ख बना रहा है।


Source: Sabguru

Friday, May 8, 2015

Protests in Varanasi Against Nithyananda's 20-day Program

नित्यानंद के 20 दिवसीय सत्संग कार्यक्रम का शहर में विरोध

Varanasi:
यौन शोषण के आरोपी तथाकथित महामंडलेश्वर नित्यानंद का 20 दिवसीय प्रवचन कार्यक्रम गुरुवार से शहर के होटल में शुरू हो रहा है जिसके विरोध में शहर के कई सामाजिक कार्यकर्ताओं ने आम लोगों के साथ मिलकर सामाजिक संस्था ‘सांझा संस्कृति मंच’ के तत्वाधान में वाराणसी के वरुणा पुल स्थित शास्त्री घाट पर एक सभा की।

सभा में सांझा संस्कृति मंच के संयोजक वल्लभाचार्य पाण्डेय ने कहा, 'ऐसे कुंठित और कुख्यात लोगों द्वारा संतों की गरिमा और प्रतिष्ठा धूमिल की जा रही है। काशी में यह बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। इस व्यक्ति पर महिलाओं का यौन शोषण करने के आरोप लगे हुए हैं और इसे अन्य मामलों में भी लिप्त पाया गया है। ऐसे समाज विरोधी तत्वों द्वारा धार्मिक और सांकृतिक नगरी काशी में प्रवचन कार्यक्रम किया जाना यहां की गरिमा के विरूद्ध है।'
 
इस अवसर पर समाज सेवी डॉ. आनंद प्रकाश तिवारी ने कहा, 'सांस्कृतिक और धार्मिक नगरी काशी में इतने लंबे समय के लिए कार्यक्रम का आयोजन कथित सन्यासी द्वारा अपने कुकर्मों पर पर्दा डालने और काशी से मान्यता लेने का एक कुत्सित प्रयास है जिसका काशी में विरोध आवश्यक है। धन के बल पर आयोजित किए जाने वाले इस तरह के कार्यक्रमों से संत समाज और विभिन्न धर्माचार्यों की भी गरिमा प्रभावित होती है। इस कार्यक्रम का काशी की जनता पुरज़ोर विरोध करेगी, अगर प्रशासन से सहयोग नहीं मिलता, तो हमें सीधी कार्यवाही के लिए बाध्य होना पड़ेगा।'

सभा के बाद उपस्थित लोगों ने एक सांकेतिक विरोध मार्च भी निकाला जो शास्त्री घाट से जिला मुख्यालय तक पहुंचा। इसके बाद जिलाधिकारी को संबोधित एक ज्ञापन अपर नगर मजिस्ट्रेट (द्वितीय) को सौंपा गया जिसके माध्यम से प्रशासन से मांग की गई कि काशी की सांस्कृतिक और धार्मिक गरिमा के विपरीत आयोजित हो रहे उक्त कार्यक्रम पर तत्काल रोक लगे। साथ ही शहर भर में लगाए गए पोस्टर, बैनर, फ्लेक्स पूरी तरह से हटाए जाएं।

कार्यक्रम में प्रमुख रूप से डॉ. आनंद प्रकाश तिवारी, राम जनम भाई, दिलीप कुमार दिली, गिरसंत यादव, किरण गुप्ता, प्रदीप सिंह, राजेश श्रीवास्तव, विवेकानंद, कमलेश यादव, आकांक्षा सिंह, गीता, निर्मला, विकास, ऊषा देवी, किमी वर्मा, उर्मिला दुबे, कमलेश चौहान, धीरज मौर्या, राजकुमार पटेल आदि शामिल रहे।

Source: DNA Varanasi